तत्काल युद्धविराम की मांग करने और गज़ा में इज़राइल द्वारा जारी नरसंहार का विरोध करने के लिए लाखों लोगों ने वाशिंगटन, डीसी में मार्च निकाला।

गज़ा पर इज़राइल के नरसंहारी युद्ध के विरोध में लाखों लोगों ने वाशिंगटन डीसी में मार्च किया। फोटो: एड्रियन एंटोनियोली / आंस्वर गठबंधन

13 जनवरी को, फ़िलिस्तीन एकजुटता आंदोलन की आवाज़ को सीधे बाइडेन के कानों तक पहुंचाने के लिए वाशिंगटन, डीसी के फ्रीडम प्लाजा में 400,000 लोगों की भीड़ इकट्ठा हुई। इसके बाद हजारों की संख्या में लोगों ने फ़िलीस्तीनी, यमनी, दक्षिण अफ्रीकी और प्यूर्टो रिकान के झंडे लेकर डीसी से होते हुए सीधे व्हाइट हाउस के दरवाज़े तक जुलूस निकाला।

इस लामबंदी को फ़िलिस्तीन के पक्ष में अमेरिकी मुस्लिम टास्क फोर्स ने आयोजित किया था, जिसमें अमेरिकी मुस्लिम फॉर फ़िलिस्तीन, काउंसिल ऑन अमेरिकी-इस्लामिक रिलेशन, इस्लामिक सर्कल ऑफ नॉर्थ अमेरिका, मुस्लिम अमेरिकी सोसायटी, मुस्लिम स्टूडेंट एसोसिएशन-नेशनल, मुस्लिम लीगल फ़ंड ऑफ़ अमेरिका, मुस्लिम उम्माह ऑफ नॉर्थ अमेरिका, और यंग मुस्लिम तथा आंस्वर गठबंधन शामिल था।

बाइडेन के समर्थन से गज़ा में इज़राइल के नरसंहार को बढ़ावा देने से निराश होकर, प्रदर्शनकारियों ने राष्ट्रपति के आवास को घेर लिया और “यमन पर हमला बंद करो के नारे लगाए!” ये नारे अमेरिका द्वारा इज़राइल जाने वाले जहाजों की नाकाबंदी के जवाब में यमन के ख़िलाफ़ अमेरिका-ब्रिटेन बमबारी अभियान के संदर्भ में लगाए जा रहे थे। प्रदर्शनकारियों ने गज़ा में नरसंहार और अब तक मारे गए 10,000 से अधिक बच्चों की निंदा करने के लिए व्हाइट हाउस के दरवाज़े पर खून से सनी गुड़िया भी छोड़ी। जैसे ही भीड़ ने प्रदर्शन किया, व्हाइट हाउस की छत पर कई स्नाइपर्स देखे गए।

गज़ा में इज़राइल के नरसंहार के लगभग 100 दिन पूरे होने के मद्देनज़र फ़िलिस्तीन के साथ एकजुटता दिखाते हुए वैश्विक कार्रवाई दिवस में भाग लेने वाले हजारों लोग डीसी जुलूस  में शामिल हुए और दुनिया भर के लाखों लोग इसमें शामिल हुए। दक्षिण अफ्रीका, जापान, तुर्की, यूके, दक्षिण कोरिया, इंडोनेशिया, आयरलैंड, न्यूजीलैंड, आइवरी कोस्ट, स्वीडन, इटली, जर्मनी, ऑस्ट्रिया, ऑस्ट्रेलिया, फ़िनलैंड के प्रमुख शहरों में भी रैलियाँ, हड़तालें और सामूहिक लामबंदी आयोजित की गईं, जैसा कि पूरे संयुक्त राज्य अमेरिका में किया गया था। शनिवार सुबह 5 बजे हजारों लोगों ने कैलिफोर्निया के ओकलैंड बंदरगाह को बंद कर दिया था।

जुलूस से पहले, फ्रीडम प्लाजा में हजारों की जमा भीड़ ने अमेरिकी मुस्लिम समुदाय और साम्राज्यवाद-विरोधी संगठनों के विविध वक्ताओं के भाषणों को सुना। मुस्लिम अमेरिकन सोसाइटी के इस्माहान अब्दुल्लाही ने कहा कि, “जब तक गज़ा में नरसंहार को अमेरिकी प्रशासन द्वारा वित्त पोषित किया जाता रहेगा, हम न्याय और फ़िलिस्तीनी लोगों की मुक्ति की मांग से पीछे नहीं हटेंगे।”

उन्होंने आगे कहा कि, “जिस तरह दक्षिण अफ्रीका साहसपूर्वक इज़राइल पर नरसंहार का आरोप लगाने के लिए आगे आया है, उसी तरह हम संयुक्त राज्य अमेरिका के लोग भी उठेंगे और अपने प्रयास जारी रखेंगे।”

अमेरिकन मुस्लिम फॉर फ़िलिस्तीन के ताहेर हरजल्ला ने कहा कि आप गज़ा में बच्चों की चीखों को सुनकर दंग रह जाएंगे। हरजल्ला ने भी कई अन्य वक्ताओं की तरह, चल रहे गज़ा नरसंहार के लिए सीधे संयुक्त राज्य सरकार को दोषी ठहराया। उन्होंने कहा, “जो बाइडेन आप नरसंहारक हो, ब्लिंकन आप और आपके रक्षा सचिव लॉयड ऑस्टिन कसाई हो। आप उनकी प्रार्थनाओं, बुजुर्गों और गज़ा की महिलाओं की पीड़ादायक प्रार्थनाओं से प्रभावित होंगे। और हम, यह नई पीढ़ी, उनकी प्रार्थनाओं का जवाब बनेंगे।”

(प्रदर्शनकारियों ने इज़राइल को सभी अमेरिकी फंडिंग बंद करने की मांग की। फोटो: व्याट सॉअर्स/आंस्वर गठबंधन)

2024 एक चुनावी वर्ष है, और बाइडेन, जो फिर से चुनाव के मैदान में हैं, पहले से ही कई अभियान कार्यक्रमों में फ़िलिस्तीन समर्थक प्रदर्शनकारियों को झेल चुके हैं। मुख्यधारा के मीडिया आउटलेट ने 2024 में बाइडेन की संभावनाओं के बारे में खुले तौर पर चिंता व्यक्त की है, क्योंकि उम्रदराज़ राष्ट्रपति डेमोक्रेटिक पार्टी के प्रमुख जनसांख्यिकीय समर्थन जैसे युवा लोगों और अरब-अमेरिकियों को खो रहे हैं।

डीसी जुलूस में भाग लेने के लिए शिकागो से आए मोहम्मद साबरी ने कहा कि, “अमेरिकी लोगों पर ध्यान केंद्रित करने के बजाय, हमारे टैक्स के पैसे का इस्तेमाल नफरत फैलाने, युद्ध फैलाने, आपराधिक गतिविधि का समर्थन करने, स्पष्ट रूप से नरसंहार का समर्थन करने के लिए किया जा रहा है।” उन्होंने पीपल्स डिस्पैच को बताया कि वह बाइडेन को वोट क्यों नहीं देंगे।

बाइडेन की अलोकप्रियता के परिणामस्वरूप, 2024 में राष्ट्रपति पद के लिए दौड़ रहे तीसरे पक्ष के उम्मीदवारों को नई प्रमुखता मिली है। सत्तारूढ़ डेमोक्रेटिक पार्टी के वाम रुख वाले मंच चलाने वाले जिल स्टीन और कॉर्नेल वेस्ट दोनों ने गज़ा के लिए मार्च को संबोधित किया है।

पीपल्स डिस्पैच ने राष्ट्रपति और उप राष्ट्रपति पद के उम्मीदवारों क्लाउडिया डी ला क्रूज़ और करीना गार्सिया से बात की, जो जुलूस के मैदान में थे और सैकड़ों हजारों की भीड़ के बीच मार्च कर रहे थे, और एक स्पष्ट रूप से समाजवादी मंच पर संयुक्त रूप से चल रहे थे। “हम जानते हैं कि 2024 के चुनाव में भाग लेने वाले किसी भी राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के लिए फ़िलिस्तीन की स्वतंत्रता को प्राथमिकता देना महत्वपूर्ण है। जो कोई ऐसा नहीं करता वह नरसंहार के समर्थन में खड़ा है,” पार्टी फॉर सोशलिज्म एंड लिबरेशन के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार डी ला क्रूज़ ने उक्त बातें जुलूस के दौरान कही।

गार्सिया ने कहा कि, “डेमोक्रेटिक राजनेता, वे साल के दौरान बहुत अधिक दिखावा करना पसंद करते हैं, विशेष रूप से घरेलू मुद्दों पर, और वे कभी भी साम्राज्यवाद के बारे में बात नहीं करना चाहते हैं, जो कि मुख्य मुद्दा है, यह पूरी दुनिया के सामने आने वाली सभी समस्याओं का मूल है।”

(वाशिंगटन डीसी में गज़ा के लिए मार्च में भाग लेने वाली क्लॉडिया डे ला क्रूज़ और करीना गार्सिया का पीएसएल राष्ट्रपति का टिकट। फोटो: क्रेग बिर्चफील्ड/आंस्वर गठबंधन)